Total Page Views of Dil Se Desi Shayari-Poetry Blog by
Visitors w.e.f. 20.00 Hrs IST 26/06/11

Total Page/Topic Views

Recent Topics

Friday, 24 August 2012

मेरी बंजर भावनाओं के गलियारों में------ राजीव चतुर्वेदी


" मेरी बंजर भावनाओं के गलियारों में
जो गमले दो चार पड़े हैं --तुमने रख्खे हैं
इन गमलों में पानी तुम ही डाला करते बेहतर होता
गमलों के ये बौने पोधे पानी पीकर
पढ़ते होंगे उस बसंत की परिभाषा भी जिसको तितली तुमसे बेहतर जान रही है
गमलों में तुम फू
ल उगा कर भूल गए हो
गमलों और बंगलों में जो रहते हैं जड़ होते है
चेतन की चर्चा मत करना वेतन की मारामारी है
और घूसखोरी के अवसर बंगलेवालों को गमले पर बरसे मानसून जैसे लगते हैं
इनकी जड़ें जमीनों से रिश्ता भी कम रखती हैं
जड़ें नहीं जिनकी गहरी वह बहकेंगे
मिट्टी से रिश्ता रख्खेंगे वह महकेंगे
गमले के पौधे बंगले के बच्चे जल्दी खिलते, मरते भी जल्दी हैं
मेरी बंजर भावनाओं के गलियारों में
जो गमले दो चार पड़े हैं --तुमने रख्खे हैं
इन गमलों में पानी तुम ही डाला करते बेहतर होता
गमलों के ये बौने पौधे पानी पीकर
पढ़ते होंगे इस बसंत की परिभाषा भी जिसको तितली तुमसे बेहतर जान रही है ."------ राजीव चतुर्वेदी

Sunday, 29 July 2012

When you are sad,I will dry your Tears

Tere Bagair Yeh Dil Mera Kahi Na Lage


 
Tere Bagair Yeh Dil Mera Kahi Na Lage,
Tujko Tujse Churalu Agar Bura Na Lage.
Agar Tum Par Marna Hai Toh Is Tarah Maru,
Dil Ko Kya Dhadkan Ko Bhi Pata Na Lage.

Thursday, 26 July 2012

यम तू जानता है ये धरती है भारत की ----राजीव चतुर्वेदी


 
 





"
मैं थक गया हूँ चलते -चलते,...कल चलूँगा 

यम तू जानता है ये धरती है भारत की 

यहाँ दिल असली और बिल फर्जी होते हैं 

तू भी बनाले फर्जी बिल किसी महगे से होटल का 

और यह जो भैसा है तेरा सरकारी सी सवारी इसमें घूस का पेट्रोल भर 

तू यम है घूसखोर सरकारी कर्मचारी सी सूरत है  तेरी 

सब जानते हैं यम को गम नहीं होता

ये सरकारी अमीन और कमीन सभी उसके ही वंशज हैं 

मिलाओ शक्ल उनसे मिलती नहीं होगी 

यह सरकारी मुलाजिम हैं इनकी बीबीयों के काम नौकर ही तो करते हैं."



----राजीव चतुर्वेदी 

Sunday, 22 July 2012

Jab Dil Dard Ke Jungle Mein Bhatkta Hain


 
Jab Dil Dard Ke Jungle
Mein Bhatkta Hain
Tab Teri Kami Bahut
Mehsoos Hoti Hai
Jab Dard Nas Nas Se
Hoker Gujrta Hai
Tab Teri Yaado Ki
Chhaaon Mein Aaker
Zindagi Soti Hai
Jab Tujhe Paane Ko
Bahut Bechain Hota
Hai Ye Dil
Tab Mat Poochh Ye Aankh
Kis Qadar Roti Hai........
 

Saturday, 21 July 2012

Saza Kaatne Ke Baad Bhi Mujhe Rehaai Na Mili


Saza Kaatne Ke Baad Bhi Mujhe Rehaai Na Mili,
Dhoke Farebi Dunya Me Sachaai Na Mili,
Sab Ko Maloom Tha Meri BeGunahi Ka,
Mujhe Safaai Ke Liye Koi Gawaahi Na Mili,
Jab DiL Ghabraya Dunya Ke Shor Wo Ghul Se,
Bht TaLaash Ki Mgr Mujhe Kahin Tanhaai Na Mili,
Kya Pata Kaise Basar Karte Hain Zindagi Wo Log,
Jin Ko Dunya Dekhne Ke Liye Benaai Na Mill,
Jis Se Wafa Karte The Apna Samjh Kar, “WASI !
Us Se Bhi ilzaam MiLa Koi Achai Na Mili.. !

Kuchh Kaanto Ki Trha Chubhe Tau Kuchh Phool Banke Khile


Zindagi Mein Bahut Se Log Mile
Kuchh Kaanto Ki Trha Chubhe
Tau Kuchh Phool Banke Khile
Koi Mila Chnad Ki Chandni Banke
Tau Koi Mila Pariyo Ki Kahani Banke
Per Jise Bhi Palko Pe Bithaya Hamne
Wohi Nikal Gaya Aankh Se Paani Banke
Saari Umer Hame Zindagi Ke Yahi
Silsile Mile
Kuchh Kaanto Ki Trha Chubhe Tau
Kuchh Phool Banke Khile

Kaun Saa Lafz Tere Waaste Izaad Karu


 
Kaun Saa Lafz Tere Waaste
Izaad Karu
Sochti Hu Tujhe Main Kis Naam
Se Yaad Karu
Meri Duaao Kaa Ye Aasar Hai
Ki Tum Chand Ho Gaye
Fir Kis Muh Se Tumhe Naa Paa
Sakne Ki Fariyad Karu

Friday, 20 July 2012

Jaane Kaha Kho Jaate Hain Log


 
Kati Patang Ki Trha 
Jaane Kaha Kho Jaate 
Hain Log
Rooh Me Baste Hain 
Per Fir Bhi
Zuda Ho Jaate 
Hain Log
Maana Ki Jeene Ke 
Sahare Aur Bhi Hain 
Bahut
Per Fir Bhi Kayu Her 
Pal Zaroorat Ban Ke 
Yaad Aate Hain Log 

...Bonds Of Friendship...